330 असंभव है कोरोना वायरस से मृत्यु दर को शून्य पर रखना है, देश अब दुनिया को अलार्म कर रहे,COVID-19 सबसे खराब दुनिया का स्वास्थ्य आपातकाल.भविष्य में देशों को अपनी सीमाएं बंद रखना असंभव होगा:WHO D.G.T.A.गेब्रेयस CRIME BHASKAR NEWS.COM EDITOR-UMESH SHUKLA


 CRIME BHASKAR NEWS.COM EDITOR-UMESH SHUKLA

नई दिल्ली| WHO के महानिदेशक तेदरोस अदहानोम गेब्रेयस ने उन्होंने कहा, वायरस के ख़िलाफ जितना गंभीरता से काम करेंगे वायरस उतना नीचे जाएगा लेकिन जैसे ही आपने ढील दी तो वायरस फिर से बढ़ने लगेगा” हालांकि वो ये स्वीकार करते हैं कि भविष्य में देशों के लिए अपनी सीमाएं बंद रख पाना लगभग असंभव होगा. तेदरोस ने इस बात पर जोर दिया कि हमारी प्राथमिकता जिंदगियों को बचाए रखने की है।  
                        कनाडा चीन, जर्मनी और दक्षिण कोरिया के कोविड-19 को नियंत्रित करने के लिए उन्होंने कहा, "जहां इन उपायों का पालन किया जाता है, वहां मामले कम होते हैं और जहां इनका पालन नहीं होता वहां मामले बढ़ते जाते हैं।"
कई देशों में कोरोनावायरस फिर से फैल रहा है, उन राष्ट्रों में भी जिन्हें लगा था कि उन्होंने इस पर काबू कर लिया है।  ये देश अब दुनिया को अलार्म कर रहे हैं।  कोरोनावायरस से 650,000 लोगों की मौतें हो चुकी हैं।  WHO एमरजेंसी प्रोग्राम के प्रमुख माइक रायन का कहना है कि सेकेंड वेव की परिभाषा ढ़ूढ़ने से पहले राष्ट्रों को उनके यहां पैदा हो रहे हॉटस्पॉट्स में फिज़िकल डिस्टेंसिंग जैसे स्वास्थ्य प्रतिबंध लगाने चाहिए।
                  जापान और ऑस्ट्रेलिया की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा, '' हमें ट्रांसमिशन को कम करना है, लेकिन साथ ही हमें कमजोर समूहों की पहचान करनी है और उनकी जान बचानी है, अगर संभव हो तो मृत्यु दर को शून्य पर रखना है ''कोरोना वायरस महामारी अब तक 1.6 करोड़ लोगों को संक्रमित कर चुकी है।  WHO के महानिदेशक A.T. गेब्रेयस ने कहा कि कोरोना वायरस जैसी वैश्विक महामारी का सामना पहले कभी भी WHO ने नहीं किया। एक ऑनलाइ समाचार ब्रीफिंग में तेदरोस ने कहा कि मास्क पहनने, भीड़ से बचने जैसे स्वास्थ्य उपायों के ज़रिए ही इसे हराया जा सकते है।

BREAKING NEWS