326 अमेरिका चीन में कोरोना वायरस की उत्पत्ति की अमेरिकी मांग को लैब कनेक्शन की जांच पर US ने बढ़ाया जोर, बौखलाए चीन ने कहा- बंद करो राजनीति-(crime bhaskar news. com -Editor Umesh Shukla)


         -(crime bhaskar news. com -Editor Umesh Shukla)

 ,बीजिंग|   इस वायरस का सबसे पहले पता चीन में वर्ष 2019 के आखिर में लगा था।चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राष्ट्रपति जो बाइडेन का आदेश दिखाता है कि अमेरिका, तथ्यों और सच्चाई की परवाह नहीं करता और न ही उसकी रुचि वैज्ञानिक तरीके से वायरस के उद्गम का पता लगाने में है। राजनीतिबाइडेन ने अपने खुफिया अधिकारियों को महामारी के उद्गम का पता लगाने की कोशिशों को दोगुना करने को कहा है। कोरोना वायरस के उभरने के केंद्र की पड़ताल की अमेरिकी की मांग पर चीन बौखला गया है। अमेरिका की मांग पर चीन ने जवाब दिया है कि बाइडेन प्रशासन इस मसले पर राजनीति कर रहा है। चीन ने कहा कि बाइडेन प्रशासन अपनी जिम्मेदारी से बच रहा है और राजनीति करते हुए एक बार फिर से कोरोना के उभार के सेंटर की जांच की मांग कर रहा है। कोरोना संक्रमण का पहला केस 2019 के आखिरी दिनों में चीन में ही मिला था। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा कि जो बाइडेन का आदेश यह दिखाता है कि अमेरिका को सच और तथ्यों की कोई परवाह नहीं है। वह इस बात की गंभीर वैज्ञानिक पड़ताल करने में भी कोई रुचि नहीं रखता कि आखिर कोरोना का उभार कहां से हुआ।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने अपनी खुफिया एजेंसियों से दुनिया भर में बर्बादी लाने वाली घातक कोविड-19 वैश्विक महामारी की उत्पत्ति का पता लगाने के प्रयासों को और अधिक तेज करने को कहा है। उन्होंने यह भी कहा है कि वायरस के चीन की प्रयोगशाला से फैलने की आशंका की भी जांच की जाए।  कोरोनावायरस की उत्पत्ति की जांच कराने के अमेरिकी मांग को चीन ने बताया चीन ने गुरुवार को अमेरिका के जो बाइडेन प्रशासन पर कोरोना वायरस के उद्गम की दोबारा जांच कराने की मांग कर अपनी जिम्मेदारी से बचने और राजनीति करने का आरोप लगाया। साथ ही उन्होंने वायरस के चीन की प्रयोगशाला से किसी संभावित संबंध का पता लगाने को भी कहा है। झाओ ने कहा कि अमेरिका को खुद फोर्ट डेट्रिक सैन्य अड्डे सहित सभी जैव प्रयोगशालाओं को जांच के लिए खोलना चाहिए। 

उन्होंने कहा, अमेरिकी पक्ष दावा करता है कि वह चाहता है कि चीन विस्तृत, पारदर्शी और सबूत आधारित अंतरराष्ट्रीय जांच में शामिल हो। झाओ ने कहा, हम अमेरिकी पक्ष से भी ऐसा ही चाहते हैं कि वह उद्गम का पता लगाने के लिए वैज्ञानिक आधार पर होने वाली जांच में विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ सहयोग करे।वह इस बात की गंभीर वैज्ञानिक पड़ताल करने में भी कोई रुचि नहीं रखता कि आखिर कोरोना का उभार कहां से हुआ।




BREAKING NEWS