279 ममता बनर्जी का सरकार पर आरोप बंगाल को केंद्र नहीं दे रहा कोरोना टीका,सरकार का जवाब- W बंगाल को कोविशील्ड और कोवैक्सीन की कुल 52.90 लाख डोज सप्लाई किए,अभी भी 22.01 लाख डोज बंगाल में बचे : पीएम मोदी ने खारिज किया आरोप (crime bhaskar news .com-umesh shukla)



 (crime bhaskar news .com-umesh shukla)

                केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने वैक्सीन की डोज का आंकड़ा जारी करते हुए बताया कि बंगाल को कोविशील्ड और कोवैक्सीन की कुल 52.90 लाख डोज सप्लाई किए गए हैं। इसमें से टीकाकरण अभियान के दौरान राज्य सरकार ने 30.89 लाख का इस्तेमाल किया है, जबकि अभी भी 22.01 लाख कोरोना टीके के डोज बचे हुए हैं। यह आंकड़े 17 मार्च, सुबह आठ बजे तक के हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सरकार पर पर्याप्त संख्या में कोरोना वैक्सीन नहीं उपलब्ध कराने का आरोप लगाया है, जिसे केंद्र ने खारिज कर दिया। ममता ने बुधवार को सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि केंद्र कोरोना के टीके राज्य को उपलब्ध नहीं करवा रहा है। 

             सरकार ने टीकों के डेटा से जुड़ी जानकारी शेयर की है और बताया है कि अभी भी 20 लाख से ज्यादा वैक्सीन की डोज बंगाल सरकार के पास बची हुई हैं। केंद्र सरकार के साथ राजस्थान, महाराष्ट्र के बाद बंगाल का भी कोरोना वैक्सीन के मुद्दे को ले विवाद हो गया है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विभिन्न मुख्यमंत्रियों के साथ हुई बैठक में हिस्सा नहीं लिया था। कोरोना के मुद्दे पर हुई इस बातचीत में पीएम के साथ बंगाल के चीफ सेकरेट्री अलापम बंधोउपाध्याय शामिल हुए थे। उन्होंने बैठक के दौरान वैक्सीन का मुद्दा उठाते हुए कहा था कि बंगाल को और टीकों की जरूरत है। बताया जा रहा है कि चुनावी कैंपेन में बिजी होने की वजह से ममता बनर्जी पीएम मोदी के साथ हुई इस बैठक में शामिल नहीं हो सकीं। 

   वैक्सीन की कमी का मुद्दा राजस्थान, महाराष्ट्र भी उठा चुके-आंकड़ों के मुताबिक इनमें 75,47,958 स्वास्थ्य कर्मी शामिल हैं। स्वास्थ्य कमर्मियों में 46,08,397 को दूसरी खुराक भी लग चुकी है। इसके अलावा 76,63,647 अग्रिम मोर्चे पर कार्यरत कर्मियों को टीका लगाया गया है जिनमें से 17,86,712 कर्मी दूसरी खुराक ले चुके हैं।  राज्य के स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर रघु शर्मा ने कहा था कि हमारे पास सिर्फ तीन दिनों के लिए वैक्सीन बची है। इसके बाद, केंद्र ने जवाब दिया कि राजस्थान में वैक्सीन की कोई कमी नहीं है। भेजी गईं 37.61 लाख खुराकों में से सिर्फ 24.28 लाख खुराकों का इस्तेमाल किया गया है। इनके अलावा 60 साल से अधिक उम्र के 1,24,74,362 लाभार्थियों को और 45 से 60 साल उम्र के गंभीर बीमारी से जूझ रहे 23,86,568 लोगों को भी कोविड-19 का टीका लगाया गया है।पश्चिम बंगाल इकलौता राज्य नहीं है, जिसने हाल के समय में वैक्सीन की कमी का मुद्दा उठाया हो। इससे पहले राजस्थान और महाराष्ट्र में स्वास्थ्य मंत्री टीकों की कमी की बात कह चुके हैं। हालांकि, केंद्र सरकार ने उस समय भी बताया था कि दोनों राज्यों के पास पर्याप्त संख्या में वैक्सीन है। 

                                            देश में साढ़े तीन करोड़ से अधिक लोगों को लगा टीका-केंद्र उन्हें ऐसा नहीं करने दे रहा है। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने बिहार विधानसभा चुनावों से पहले वादा किया था कि राज्य के सभी लोगों को निशुल्क टीका लगाया जायेगा लेकिन उसने इस वादे को पूरा नहीं किया।अब तक देश में कोविड-19 टीके की कुल 3.64 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी है। सरकार ने बताया कि अंतरिम आंकड़ों के मुताबिक बुधवार शाम सात बजे तक कोविड-19 टीके की 3,64,67,744 खुराक दी गई है।  ममता बनर्जी ने झाराग्राम में आयोजित एक रैली में आरोप लगाया कि वह राज्य के लोगों का निशुल्क कोविड-19 टीकाकरण चाहती हैं|  

BREAKING NEWS