264 सीधी बस हादसा: 32 सीटर बस में 60 से ज्यादा ओवरलोडिंग थे सवार,47 की मौत-7 बचे और 5 अब भी लापता,मारे गए लोगों में आधों की उम्र 20 से 30 के बीच आखिरी सफर, राहत और बचाव दल IG कलेक्टर, SP और SDRF की टीम वहां: CM:शिवराज सिंह(crime bhaskar news .com-umesh shukla)


 (crime bhaskar news .com-umesh shukla)

                 शिवराज सिंह चौहान ने कहा, 'नहर काफी गहरी है। हमने तत्काल बांध से पानी बंद करवाया और राहत और बचाव दलों को रवाना किया। कलेक्टर, SP और SDRF की टीम वहां है। बस निकालने के प्रयास हो रहे हैं। मैं राहत और बचाव कार्य करने वाली टीम के संपर्क में हूं। 7 साथी बचाए जा चुके हैं।' सूबे के सीएम ने कहा कि आज हम बड़े उत्साह से 1 लाख 10 हजार घरों में गृह प्रवेश का कार्यक्रम सम्पन्न करने वाले थे लेकिन  सीधी ज़िले के बाणसागर नहर में यात्रियों से भरी एक बस नहर में गिर गई है। इसलिए आज कार्यक्रम करना उचित नहीं होगा।  सीधी के एसपी पंकज कुमावत ने कहा, ''शुरुआती जांच में पता चला कि चालक ने छुइहा घाटी में जाम होने की वजह से चालक ने शॉर्ट रूट अपनाया और एग्जाम के लिए लेट हो रहे परीक्षार्थी चालक से स्पीड बढ़ाने को कह रहे थे। इसी दौरान चालक ने बस से नियंत्रण खो दिया और यह नहर में जा डूबी।''मध्य प्रदेश के सीधी में मंगलवार सुबह हुए बस हादसे ने कम से कम 47 परिवारों को उजाड़ दिया है, जिनके अपने बस के साथ 20 फीट गहरी नहर में समा गए। 7 खुशकिस्मत मौत के मुंह से निकलने में कामयाब रहे तो 5 अब भी लापता हैं। हादसे के बाद चालक की गलती बताई गई। शॉर्टकट चुनने, संकरे रास्ते और ओवरटेकिंग जैसी वजहों को जिम्मेदार बताया गया तो अब पता चला है कि 32 सीटों वाली इस बस में 60 से अधिक लोग सवार थे। ओवरलोडिंग को लेकर अब प्रशासन पर भी सवाल उठ खड़ा हुआ है। आईजी ने बताया कि 37 शव बस के भीतर बरामद हुए तो 9 नहर में बह चुके थे। 

                         नहर के पास रहने वाली 17 साल की एक लड़की शिवरानी लोनिया और उसके भाई रामप्रसाद ने कम से कम 7 लोगों को नहर से निकालने में मदद की। लोनिया ने आसपास के लोगों को बताया कि बस नहर में गिर गई है। लोनिया ने मीडिया कर्मियों से बात करते हुए कहा, ''बस की स्पीड बहुत ज्यादा थी और चालक ने नियंत्रण खो दिया। बस के नहर में गिरने के बाद हम भी कूद गए और कुछ यात्रियों को बचा पाए। हादसे के बाद बस से निकले 7 लोगों को ही हम बचा सके।''खो दिया और बस बाणसागर नहर में जा गिरी। जोगा ने आगे कहा, ''बाणसागर नहर में बहाव तेज होने की वजह से बचावकर्मियों को बस को तलाशने में तीन घंटे का समय लगा।''हादसे में 24 पुरुष, 21 महिलाएं और दो बच्चों की मौत हुई है, जोकि सीधी, सिंगरौली और सतना जिलों के रहने वाले थे। मारे गए लोगों में आधों की उम्र 20 से 30 के बीच है। ये सतना और रीवा में सरकारी नौकरी के लिए परीक्षा देने जा रहे थे।

BREAKING NEWS