196




मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कृषकों के हित में फसल कटाई के प्रयोगों के आधार पर वास्तविक उत्पादन ज्ञात कर तदनुसार चना, मसूर और सरसों की खरीदी की सीमा पुनर्निर्धारित की जायेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में रबी उपार्जन कार्य की समीक्षा कर रहे थे।

श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संकट के मौजूदा दौर में रबी उपार्जन का कार्य तेज गति से चल रहा है। साथ ही किसानों के खातों में भुगतान की राशि भी यथाशीघ्र पहुँचाई जा रही है। अभी तक प्रदेश के 41 हजार किसानों के खातों में 258 करोड़ की राशि पहुँच चुकी है। आज तक कुल एक लाख 87 हजार किसानों को भुगतान के लिए 1360 करोड़ रूपये बैंकों को भिजवा दिए गए हैं। मुख्यमंत्री ने बताया कि अब हम बुधवार से चना, मसूर एवं गुरूवार से सरसों की समर्थन मूल्य पर खरीदी प्रारंभ कर रहे हैं। उन्होंने खरीदी कार्य लॉक डाउन के नियमों का पालन करते हुए पूरी फिजिकल डिस्टेंसिंग एवं सुरक्षात्मक उपायों के साथ किए जाने के निर्देश दिए। 

अभी तक 22 लाख एमटी गेहूँ खरीदी

प्रमुख सचिव श्री शिव शेखर शुक्ला ने बताया कि प्रदेश में अभी तक 4 लाख 65 हजार किसानों से 22 लाख एमटी गेहूँ की समर्थन मूल्य पर खरीदी की जा चुकी है। होशंगाबाद सहित अन्य जिलों में भी एक चौथाई खरीदी हो चुकी है। प्रतिदिन खरीदी का आंकड़ा 3 लाख एमटी तक पहुँच रहा है। उपार्जित गेहूँ में से 78 प्रतिशत गेहूँ का परिवहन भी हो चुका है।

चनामसूर की खरीदी 29 अप्रैल से

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसान एसएमएस मिलने पर ही अपनी फसल बेचने खरीदी केन्द्र पर आएं। संचालक कृषि ने बताया कि 29 अप्रैल से प्रदेश में चना, मसूर की तथा 30 अप्रैल से सरसों की समर्थन मूल्य पर खरीदी प्रारंभ की जाएगी। इसके लिए किसानों को एस.एम.एस भिजवा दिए गए हैं।

बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस,  पुलिस महानिदेशक श्री विवेक जौहरी, संचालक जनसंपर्क श्री ओ.पी. श्रीवास्तव उपस्थित थे।

Sliderfront