171 प्रदेश में अधिक निवेश आकर्षित करना होगा


 उच्च स्तरीय समिति में उद्योगों के प्रतिनिधि शामिल हों

मुख्यमंत्री ने उद्योगों की समीक्षा 


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना संकट से प्रदेश की आर्थिक स्थिति को उबारने के लिए हमें आगामी समय में अधिक से अधिक निवेश को प्रदेश में आकर्षित करना होगा। उन्होंने निर्देश दिये कि इसके लिए एक उच्च स्तरीय समिति बनाई जाएजिसमें उद्योगों के प्रतिनिधियों को भी शामिल किया जाए। श्री चौहान ने कहा कि इस समिति की अनुशंसा के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। श्री चौहान मंत्रालय में प्रदेश में उद्योगों की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे।

173 बड़े एवं 1449 छोटे उद्योग चालू

प्रमुख सचिव उद्योग डॉ. राजेश राजौरा ने बताया कि प्रदेश के कुल 370 बड़े उद्योगों में से वर्तमान में 173 उद्योग चालू हैं, जिनमें 40 फार्मास्युटिकल्स, 34 खाद्य प्र-संस्करण, 15 उपभोक्ता वस्तुओं, 25 पैकेजिंक तथा अन्य 59 उद्योग हैं। इसी प्रकार, प्रदेश के छोटे एवं मझौले 22 हजार 307 उद्योगों में से वर्तमान में 1449 इकाईयां संचालित हैं। इन इकाईयों में 30 हजार श्रमिक कार्यरत हैं।  

उद्योग चालू रखने में सावधानियाँ

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि लॉकडाउन के दौरान प्रदेश में गाइड लाइन अनुसार उद्योगों के संचालन में सावधानियाँ रखी जाना सुनिश्चित किया जाए। प्रत्येक संस्थान कार्य के हिसाब से अपनी एस.ओ.पी. लागू करें। सामाजिक दूरी के सिद्धांत का पालन सुनिश्चित करें। अपनी आंशिक क्षमता अनुसार 40 से 50 प्रतिशत उत्पादन प्रारंभ करें। जहाँ तक संभव हो, श्रमिकों के लिये औद्योगिक परिसर में ही रहने की व्यवस्था करें। संक्रमित जिलों में से कोई भी श्रमिक आदि नहीं आएगा, यह सुनिश्चित किया जाए। अधिक उम्र वाले मजदूरोंछोटे बच्चे वाली महिलाओं को कार्य पर नहीं बुलाया जाए तथा स्वस्थ मजदूरों को स्क्रीनिंग के बाद कार्य पर लगाया जाए। 

उद्योगों की अपेक्षाएँ

बैठक में बताया गया कि वर्तमान परिदृश्य में उद्योगों की शासन से अपेक्षाएं हैं कि उन्हें लंबित देय राशि का भुगतान होउद्योग नीति अंतर्गत सुविधाओं के लाभ के लिये निर्धारित समयावधि में शिथिलता मिलेऔद्योगिक क्षेत्रों में वार्षिक भू-भाटक को स्थगित किया जाएनिवेश सहायता के लिए निर्धारित न्यूनतम उत्पादन क्षमता में शिथिलता की जाए तथा वास्तविक खपत के आधार पर मार्च से जून 2020 तक के विद्युत देयक का भुगतान लिया जाए। 

बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंसअपर मुख्य सचिव श्री अनुराग जैनप्रमुख सचिव डॉ. राजेश राजौराप्रमुख सचिव श्री मनीष रस्तोगी उपस्थित थे।


Sliderfront