139 राज्यपाल ने विश्वविद्यालयों को लॉकडाउन में प्रभावी शैक्षणिक संचालन पर दी बधाई


लॉकडाउन में हुईं 8,966 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएँ और प्रकाशित हुए 398 शोध पत्र

 राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने लॉकडाऊन अवधि में छात्र-छात्राओं की घर पर रहते हुए शैक्षणिक गतिविधियों का प्रभावी संचालन करने और युवाओं की ऊर्जा का सकारात्मक उपयोग करने में सफलता के लिये प्रदेश के विश्वविद्यालयों की सराहना की है। उन्होंने विश्वविद्यालयों के प्रशासन तथा शैक्षणिक और आई.सी.टी. विशेषज्ञों को बधाई दी है।

राज्यपाल ने कहा है कि कोरोना वायरस संक्रमण के अभूतपूर्व संकट के दौरान विद्यार्थियों की शैक्षणिक गतिविधियों को सुचारू रूप से संचालित करने और न्यूनतम व्यवधान के साथ शैक्षणिक कैलेंडर के अनुपालन की जो महत्वपूर्ण उपलब्धि विश्वविद्यालय ने अर्जित की है, वह अनुकरणीय और प्रशंसनीय है। प्रदेश के 19 शासकीय विश्वविद्यालय द्वारा लॉकडाऊन अवधि में 8 हजार 966 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं चलाने, 3 हजार 486 वीडियो लेक्चर, 2 हजार 331 ऑडियों लेक्चर, 8 हजार 758 पी.डी.एफ. लेक्चर छात्र छात्राओं को उपलब्ध कराना और 398 शोध पत्र भी प्रकाशित होना एक मिसाल है।

राज्यपाल श्री टंडन ने कुलपतियों ने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए शिक्षकों और छात्र-छात्राओं द्वारा ईमेल, व्हाट्सएप और एस.एम.एस. के द्वारा प्रदेश के दूरस्थ अंचलों, समुदायों और व्यक्तियों तक कोरोना से बचाव के उपायों की जानकारी के संदेश पहुँचाने का कार्य महत्वपूर्ण रहा। विद्यार्थियों को घर पर रहते हुए उनकी पढ़ाई की संतोष जनक व्यवस्था करने, उनके शैक्षणिक पाठ्यक्रम अनुसार शैक्षणिक गतिविधियों का संयोजन कर विश्वविद्यालयों ने विद्यार्थियों  की पढ़ाई का नुकसान नहीं हुआ है। यह उपलब्धि प्रदेश के विश्वविद्यालयों के कुलपति, शिक्षक स्टॉफ और छात्र-छात्राओं के समन्वित प्रयासों का प्रतिफल है।

राज्यपाल ने आशा व्यक्त की है कि विश्वविद्यालयों ने कोरोना संकट की विषम परिस्थितियों में अभी तक जिस सजगता और सक्रियता से कार्य किया है, उसी तरह वह प्रदेश के वार्षिक शैक्षणिक कैलेंडर को भी सफलता पूर्वक लागू कर सकेंगे। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के प्रतिवेदन की अनुशंसाओं का प्रदेश में सफलता पूर्वक अमल करते हुए परीक्षा संबंधी उत्तरदायित्वों का सफल संचालन करेंगे।

राज्यपाल के सचिव श्री मनोहर दुबे ने बताया कि आलोच्य अवधि में अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय, रीवा द्वारा 205 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं, 20 वीडियो लेक्चर के आयोजन किये गये है। इसी तरह बरकतउल्ला विश्वविद्यालय भोपाल द्वारा 374 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं, 10 वीडियो लेक्चर, 119 पी.डी.एफ. लेक्चर एवं 23 शोध पत्र, देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इंदौर द्वारा 815 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं, 985 वीडियो लेक्चर, 242 ऑडियों लेक्चर, 1633 पी.डी.एफ. लेक्चर एवं 116 शोध पत्र, जीवाजी विश्वविद्यालय, ग्वालियर द्वारा 205 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं, 205 वीडियो लेक्चर, 191 ऑडियों लेक्चर, 1269 पी.डी.एफ. लेक्चर एवं 25 शोध पत्र, रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय, जबलपुर द्वारा 139 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं, 19 वीडियो लेक्चर, 80 ऑडियों लेक्चर, 165 पी.डी.एफ. लेक्चर एवं 1 शोध पत्र, विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन द्वारा 83 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं, 21 वीडियो लेक्चर, 12 ऑडियों लेक्चर, 43 पी.डी.एफ. लेक्चर एवं 6 शोध पत्र, महर्षि पाणिनि, संस्कृत एवं वैदिक विश्वविद्यालय, उज्जैन द्वारा 33 वीडियो लेक्चर, 97 ऑडियों लेक्चर, 32 पी.डी.एफ. लेक्चर, एम.पी. भोज ओपन विश्वविद्यालय, भोपाल द्वारा 300 वीडियो लेक्चर, 460 ऑडियों लेक्चर, 326 पी.डी.एफ. लेक्चर एवं 20 शोध पत्र, महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय चित्रकूट, सतना द्वारा 1348 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं, 372 वीडियो लेक्चर, 52 ऑडियों लेक्चर, 1076 पी.डी.एफ. लेक्चर एवं 27 शोध पत्र और राजा मानसिंह तोमर संगीत और कला विश्वविद्यालय ग्वालियर द्वारा 548 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं, 2 वीडियो लेक्चर, 5 ऑडियों लेक्चर, 10 पी.डी.एफ. लेक्चर संचालित किये गये।

मध्यप्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय, जबलपुर द्वारा 1154 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं, 669 वीडियो लेक्चर, 330 ऑडियों लेक्चर, 564 पी.डी.एफ. लेक्चर एवं 9 शोध पत्र, जवाहर लाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय, जबलपुर द्वारा 916 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं, 35 वीडियो लेक्चर, 392 ऑडियों लेक्चर, 909 पी.डी.एफ. लेक्चर एवं 139 शोध पत्र, राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय, ग्वालियर द्वारा 120 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं, 105 वीडियो लेक्चर, 380 ऑडियों लेक्चर, 818 पी.डी.एफ. लेक्चर, नानाजी देशमुख पशु चिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय, जबलपुर द्वारा 281 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं, 6 वीडियो लेक्चर, 19 ऑडियों लेक्चर, 41 पी.डी.एफ. लेक्चर, सांची बौद्ध-भारतीय ज्ञान अध्ययन विश्वविद्यालय, सांची द्वारा 310 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं, 3 ऑडियों लेक्चर, 16 पी.डी.एफ. लेक्चर एवं 8 शोध पत्र, डॉ बी.आर अम्बेडकर सामाजिक विज्ञान विश्वविद्यालय, महू, इंदौर द्वारा 348 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं, 22 वीडियो लेक्चर, 3 ऑडियों लेक्चर, 45 पी.डी.एफ. लेक्चर एवं 12 शोध पत्र, पंडित एस.एन. शुक्ला विश्वविद्यालय शहडोल द्वारा 256 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं, 17 वीडियो लेक्चर, 9 ऑडियों लेक्चर, 129 पी.डी.एफ. लेक्चर एवं 2 शोध पत्र, राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय भोपाल द्वारा 1734 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं, 665 वीडियो लेक्चर, 56 ऑडियों लेक्चर, 1563 पी.डी.एफ. लेक्चर एवं 10 शोध पत्र और छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय द्वारा 130 ऑनलाईन इन्टरेक्टिव कक्षाएं संचालित की गयी।


Sliderfront